X Close
X

प्रियंका को गोरखपुर से उम्मीदवार बनाने की मांग तो कर ली, वोट कहां से जुटाएंगे जनाब!


Ajmer:

गोरखपुर लोकसभा सीट

गोरखपुर। पिछले दिनों जोश में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने पोस्टर जारी कर प्रियंका गांधी को गोरखपुर लोकसभा से उम्मीदवार बनाने की मांग की। मीडिया में सुर्खियां भी बटोरी, लेकिन कांग्रेस के लिए वोट कहां से जुटाएंगे? यह जवाब किसी कांग्रेसी के पास नहीं मिलेगा, क्योंकि पिछले छह लोकसभा चुनाव व एक उपचुनाव में कांग्रेस के लिए यहां से जमानत बचाना भी बहुत मुश्किल साबित हुआ है। जमीनी स्तर पर यहां कांग्रेस का कोई आधार नहीं है। पिछले साल हुए लोकसभा उपचुनाव में कांग्रेस को यहां से मात्र 18858 वोट मिला था।

विधानसभावार देखें तो कैंपियरगंज में 3093, गोरखपुर शहर में 6506, गोरखपुर ग्रामीण में 3606, पिपराइच में 1297 व सहजनवां में 4356 वोट कांग्रेस को मिला था। कांग्रेस पार्टी की उम्मीदवार डा. सुरहिता चटर्जी करीम गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव बुरी तरह से हार गई थी। उनकी जमानत भी जब्त हो गई थी और इसी के साथ लगातार सात बार जमानत जब्त कराने का अनोखा रिकार्ड भी कांग्रेस के खाते में जुड़ गया था।

यह वोट डा. सुरहिता द्वारा वर्ष 2012 मेयर चुनाव में हासिल वोट से भी काफी कम था। पार्टी का इस क्षेत्र में प्रभाव बिल्कुल न के बराबर है। पार्टी यहां चुनाव केवल औपचारिक रूप से लड़ती है। जिसका खामियाजा पार्टी को हमेशा भुगतना पड़ता है। डा. सुरहिता करीम को पिछले छह लोकसभा चुनाव में खड़े उम्मीदवारों से भी कम वोट मिला था। यहां से 6 बार चुनाव जीत हासिल करने वाली कांग्रेस जब धराशायी हुई तो फिर कभी संभल न सकी। यहां सपा-बसपा-निषाद-पीस पार्टी का गठबंधन दमदार है। जो भाजपा को शिकस्त देने के काबिल है। जातिगत आंकड़ों में यहां लड़ाई सपा-बसपा गठबंधन और भाजपा के बीच ही है।

पूरी उम्मीद है कि योगी आदित्यनाथ का वर्चस्व तोड़ने वाले वर्तमान सदर सांसद प्रवीण कुमार निषाद को ही सपा-बसपा गठबंधन से टिकट मिलेगा। उपचुनाव की जीत से ही सपा बसपा में गठबंधन हुआ। उपचुनाव जीतने के बाद से ही सदर सांसद आगामी लोकसभा चुनाव मे पुन: जीत के लिए प्रयासरत हैं। भाजपा के लिए यहां लड़ाई कड़ी है। सीएम योगी आदित्यनाथ के चुनाव लड़ने की भी चर्चा है। यहां से योगी आदित्यनाथ अगर चुनाव लड़ते हैं तब यहां जीत भाजपा की हो सकती है और जीत-हार का अंतर भी अधिक रहेगा। वरना भाजपा को कड़ा मुकाबला लड़ना पड़ेगा और जीत-हार का अंतर भी कम रहेगा।

डा. सुरहिता चटर्जी करीम को वर्ष 2018 के लोकसभा उपचुनाव में मिला वोट -18858
विधानसभावार
1. कैंपियरगंज –  3093
2. गोरखपुर शहर – 6506
3. गोरखपुर ग्रामीण – 3606
4. पिपराइच – 1297
5. सहजनवां – 4356
कुल वोट – 2.1%

सपा – प्रवीण कुमार निषाद – जीते – 456513 वोट
1. कैंपियरगंज – 95740 –
53%
2. गोरखपुर शहर – 65736 –
39.81%
3. गोरखपुर ग्रामीण – 100948 – 52.20%
4. पिपराइच – 100391 –
47.63%
5. सहजनवां – 93622 – 52.92%

भाजपा – उपेंद्र दत्त शुक्ला – हारे – 434632 वोट
1. कैंपियरगंज -81610 – 45.17%/
2. गोरखपुर शहर – 90313 – 54.70%
3. गोरखपुर ग्रामीण – 84667- 43.78%
4. पिपराइच – 100634 – 47.75%
5. सहजनवां – 77252 – 43.25%

हाल-ए-कांग्रेस गोरखपुर लोकसभा चुनाव में

1. डा. सुरहिता चटर्जी करीम – वर्ष 2018 (16वीं लोकसभा उपचुनाव ) – वोट- 18858/ वोट फीसद 2.1

2. अष्टभुजा प्रसाद त्रिपाठी – वर्ष 2014 (16वीं लोकसभा) – वोट – 45693/वोट फीसद – 4.39

3. लालचंद निषाद – वर्ष 2009 (15वीं लोकसभा) वोट मिला – 30262/वोट फीसद -4.04

4. शरदेन्दु पांडेय – वर्ष 2004 (14वीं लोकसभा) – वोट मिला- 33477 वोट/ वोट फीसद- 4.85

5. डा. सैयद जमाल – वर्ष 1999 (13वीं लोकसभा) -वोट मिला – 20026/ वोट फीसद -3.08

6. हरिकेश बहादुर – वर्ष 1998 (12वीं लोकसभा) – वोट मिला – 22621/ वोट फीसद – 3.59

7. हरिकेश बहादुर – वर्ष 1996 (11वीं लोकसभा) – वोट मिला – 14549/ वोट फीसद 2.60 प्रतिशत

The post प्रियंका को गोरखपुर से उम्मीदवार बनाने की मांग तो कर ली, वोट कहां से जुटाएंगे जनाब! appeared first on संस्कार न्यूज़.